हृदय और बुध्दि में सामंजस्य न बैठने से उत्पन्न होता है विशाद

Share it