शरीयत में हस्तक्षेप व संशोधन मुसलमानों को किसी हाल में बर्दाश्त नहीं

Share it