रोते हैं वतन वाले ऐ शेख-टिकैत तेरे गम में...

Share it