यहां रात को जो रुका, वह नहीं देख पाया कल का सूरज

Share it