मानव सेवाश्रम बना कसाईखाना, दो बच्चियां भागीं : 'अंकल मत जाइये प्लीज, नानाजी हमें फिर मारेंगे'

Share it