मात्र पूजा ही नहीं, राम के गुणों को आत्मसात करने में ही है जीवन की चरितार्थता

Share it