मन, वाणी और कर्म में एकत्व होना चाहिये

Share it