इच्छित कर्म करने में असमर्थ होने पर मनुष्य ईश्वर की शरण लेता है

Share it